मिर्जापुर– सरकार के तमाम आदेशों के बाद भी खेतों पर पराली जलाने का मामला रुकने का नाम नहीं ले रहा है | वही थाना क्षेत्र के पराली जलाने पर प्रशासन ने क्षेत्र के 9 किसानों पर मुकदमा दर्ज कराया है

मिर्जापुर– सरकार के तमाम आदेशों के बाद भी खेतों पर पराली जलाने का मामला रुकने का नाम नहीं ले रहा है |

वही थाना क्षेत्र के पराली जलाने पर प्रशासन ने क्षेत्र के 9 किसानों पर मुकदमा दर्ज कराया है | प्रशासन की कार्रवाई से क्षेत्रीय किसानों में हड़कंप मचा हुआ है | मिर्जापुर क्षेत्र के पृथ्वीपुर गांव में क्षेत्रीय लेखपाल प्रद्युम्न प्रसाद को खेतों में धान की पराली जलाने की सूचना मिली , जिस पर लेखपाल मौके पर पहुंचे | वहां पर किसान खेतों में पराली जला रहे थे जिससे पूरे वातावरण में धुआं हो गया था | लेखपाल द्वारा बताया गया कि पृथ्वीपुर निवासी सुधीर सिंह, श्याम पाल, लाल बहादुर, ओमकार, रती पाल, हंसराम, शांति स्वरूप, व गोपालपुर निवासी देवेंद्र तथा चक निवासी रम्मू अपने खेतों में पराली जला रहे थे | भारी धुआ के चलते आम नागरिकों तथा पशु पक्षियों को सांस लेने में असुविधा हो रही थी | लेखपाल की तहरीर थाने में धारा 278 के मुकदमा दर्ज कर लिया गया है | एसडीएम ने बताया कि किसानों को खेतों में पराली नहीं जलानी चाहिए | इससे वातावरण प्रदूषित होता है और तमाम बीमारियां पैदा होती हैं | उन्होंने कहा जो भी किसान खेतों में पराली जलाएगा सरकार कठोर कार्रवाई अमल में लाई जायेगी |

तो वही दूसरी तरफ उच्चतम न्यायालय ने वायु प्रदूषण की की गंभीर स्थिति पर काबू पाने में विफल रहने पर बुधवार को एक बार फिर केंद्र और राज्य सरकारों को आड़े हाथ लिया | न्यायालय ने पंजाब , हरियाणा तथा उत्तर प्रदेश सरकार को उनके यहां पराली नहीं जलाने वाले छोटे और सीमांत किसानों को आज से 7 दिन के भीतर ₹100 प्रति कुंतल वित्तीय सहयोग देने का निर्देश दिया | न्यायालय ने बुधवार को राज्यों से कहा कि पराली जलाने पर फौरन रोक लगाई जाए |

Translate »
%d bloggers like this: