या हुसैन की सदाओं से गूंजा मोहम्मदी

  1. या हुसैन की सदाओ से गूंजा मोहम्मदी

 

 

 

 

दसवीं मोहर्रम का जुलूस शुक्लापुर इमामवाड़े से इमाम हुसैन अलविदा की सदाओं के बीच उठा, जिसमें हजारों लोगों ने जुलूस में शिरकत की। जुलूस में हिन्दू मुस्लिम एकता देखने को मिली जिसमे इमाम हुसैन की याद में हिन्दू भाईयों ने जगह- जगह पानी की सबीले लगा कर मातमदारों को पानी पिलाया। जुलूस में अंजुमन हुसैनियां के मातमदारों ने जमके सीना जनी और नोहा खानी की।

 

जुलूस में जंजीरों के मातम से मातमदारों ने अपने आप को लहूलुहान कर लिया। वहीं छह माह के एक बच्चे ने सिर कमा का मातम किया, जिसमें महिलाओं की काफी तादाद रही। जुलूस शुक्लापुर से सुबह उठा। जुलूस नत्थू चौराहा, बाजार गंज ,अस्पताल रोड बरवर चौराहे होते हुए गुरैला कर्बला में सुपुर्द ए खाक किए गए। जुलूस में मौलाना ईवाद हुसैन नकवी ने इमाम हुसैन की शहादत पर तकरीर की जिसमें लोगों की आंखो में आंसू आ गये। इस जुलूस में एसडीएम स्वाति शुक्ला और सुरक्षा व्यवस्था की कमान प्रभारी निरीक्षक संजय त्यागी और कस्बा इंचार्ज कृपेन्द्र कुमार ने संभाली।

 

 

 

इस जुलूस में नगर पालिका परिषद, विद्युत विभाग, स्वास्थ्य विभाग आदि का सहयोग रहा। जुलूस का नेतृत्व अंजुमन के अध्यक्ष मोहम्मद अब्बास नकवी ने किया। इस जुलूस में प्रमुख रूप से मोहम्मद हसन नकवी एडवोकेट, अफजल जैदी,भोला जैदी, अकरम रिजवी, नवाब स्वाले जैदी ,मोहम्मद हसन जैदी, जब्वाद हुसैन रिजवी ,मेराज हसन, अच्छन रिजवी, फिरोज जैदी, वहीद हसन, इब्बन जैदी, राशिद अली, बच्छन जैदी, मो. असलम रिजवी ने जुलूस में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Translate »
%d bloggers like this: